bhagavad gita hindi

BHAGAVAD GITA Hindi जो आप का जीवन बदल देगी।

Bhagavad Gita in Hindi

   श्री Bhagavad Gita Hindi भाषा का एक ग्रंथ है जो जीवन का एक अलग पहेलू अपने सामने रखता है। भगवद गीता मे जो बाते लिखी गई है वो सभी बाते हमारे जीवन का सार है। भगवद गीता का पढ़ने वाला इंसान जीवन सभी बाजुओ को देख सकता है और अपना जीवन अधिक अच्छा बना सकता है। भगवद गीता  जो हजारों वर्षों से हिन्दू धर्म का धर्म ग्रंथ बनीं हुई है इसका कारण है गीत मे लिखी हुई बाते जो आज भी उतनी ही महत्वपूर्ण है। तो चलिए जानते है भगवद गीता  के बारे मे जो हमारे जीवन को बहुत अच्छे तरीके से समजने मे हमे मदद करेगी। 

           Bhagavad Gita एक पुस्तक के रूप मे है परंतु क्या आप को पता है भगवद गीत कैसे प्राप्त हुई? और कोण था उसे समजने वाला पहेल इंसान? तो चलिए समजते है भगवद गीत के बारेमे। महाभारत जो धर्म युद्ध के नाम से प्रचलित है उस महाभारत का एक हिस्सा है श्री भगवद गीता। जब महाभारत युद्ध आरंभ होने वाला होता है उस व्यक्त दोनों सेनाए रणभूमि एक दूसरे के सामने खड़ी होती है। उस समय अर्जुन जो एक महान योद्धा था वो अपनी सेना के समक्ष खड़ी अपनी विरोधी सेना को देखता है।

Bhagavad Gita

भगवान श्री कृष्ण से कहता है । “हे भगवान इस कुरुक्षेत्र मे तो सब मेरे अपनेही है जिनके खिलाप मुजे युद्ध कराना है। परंतु मुजसे ये पाप नहीं हो सकता।” अर्जुन यहा अपने सभी संबंधी, दोस्त, तथा पिता गुरु को देखकर अपने ही मन मे हर मानकर युद्ध न करने की सोच रहा है। वो सोचता है, की यह युद्ध एक पाप है जिसमे उसके अपने उसके हतोसे मारे जा सकते है और उनके मरने का पाप उसे लग सकता है और उसके बाद उसका जीवन नरक बन जाएगा। ऐसे कठिन परिस्थिति मे वो भगवान कृष्ण से जानना चाहता है की वो क्या करे।  तब भगवान श्री कृष्ण जो इस युद्ध मे अर्जुन के रथ का सारथी बने थे। जो इस युद्ध का सम्पूर्ण परिणाम जानते थे वो नहीं कहते थे की अर्जुन ऐसे मन मे हारकर अपने कर्तव्य का त्याग करे।

तब भगवान कृष्ण अर्जुन को समजते हुए जो वचन कहते है उसी को भगवद गीत मे एकत्रित किया गया है। तो भगवद गीता  स्वयं भगवान श्री कृष्ण के वो वचन है जो किसी भी परिस्थिति मे हमारे जीवन मे हमारा साथ देंगे ओर हमारी जीवन का हर समस्या का समाधान करेंगे। इसका मुजे  पूरा विश्वास है । अर्जुन जो इस्तनी बड़ी समस्या मे था उसकी मन की हर समस्या का हल श्री कृष्ण ने उसे दिया तो वही वचन भगवद गीता के सम्पूर्ण सार है। तो क्या हमारे जीवन की समस्या का हल हमे भगवद गीता मे नहीं मिल सकता आप खुदह सोचिए। 

Ghagwad Gita in Hindi

                Bhagavad Gita की सुरवात द्रुतराष्ट्र के एक सवाल से होती है जिसमे वो अपने सहायक सञ्जय से पूछता है।  “धर्मक्षेत्र कुरुक्षेत्र की पावन भूमि मे मेरे तथा पांडु के पुत्रों ने क्या किया ?”  द्रुतराष्ट्र जो जन्म से ही नेत्रहीन था तो उसे सञ्जय कुरुक्षेत्र की परिस्थिति का वर्णन बता रहा होता है। तो जब भगवान अर्जुन को उपदेश कर रहे होते है तो उस व्यक्त ओर दो लोग उस उपदेश को सुन रहे होते है। एक सञ्जय और दूसरे धृतराष्ट्र। 

                 इसी तरह एक सवाल से सुरू हुई भगवत गीत मे जीवन के बारे मे अनेक उपदेश बताए गए है। और सवाल से शुरू हुई भगवद गीता के अंत मे अर्जुन को भी अपने सभी सवालों के उत्तर मिल जाते है और वो अपने कर्तव्य का त्याग नहीं करता और युद्ध करता है। इसी तरह मे आशा करता हु की आप के भी जीवन की सभी समस्याओ का आप हल मिल जाए। 

                तो क्या लगता है आप को आप को आप को श्रीमद भगवद गीता पढ़नी  चाहिए? मुजे तो लगता है की आप को जरूर पधानी चाहिए। और ये आशा करता हु की आप जरूर पढ़ेंगे ओर आप के जीवन मे अधिक खुशिया लेकर आएंगे। तो आप को कैसा लगा ये जरूर बताइए। Bhagavad Gita Hindi मे हर जगह पर मिलती है। Bhagavad Gita Hindi online भी मिलती है.

                               धन्यवाद । 

bhagavad gita  hindi
भगवान कृष्ण

1.कितने श्लोक है भगवद गीता मे ?

    श्रीमद भगवद गीता मे सभी श्लोक की संख्या 745 है। जिस मे भगवान श्री कृष्ण के 620 श्लोक है तो अर्जुन के 57 और सञ्जय के 67 तथा द्रुतराष्ट्र का 1 श्लोक  है। 

2. भगवद गीता सार क्या है?

 भगवद गीता का सार मतलब सम्पूर्ण भगवत गीता का एक सारांश। भगवत गीता का दूसरा अध्याय भगवद गीता का सार है। जिसमे कृष्ण भगवान अर्जुन को उसके सभी कर्तव्य गुणों के बारे मे बताते है उसे मार्गदर्शन करते है की उसका कर्तव्य क्या है। 

3. कितने अध्याय Bhagavad Gita मे है?

 भगवद गीता मे कुल १८ अध्याय है। हर एक अध्याय मे अलग अलग समस्या का निराकरण किया गया है।

हर अध्याय एक दूसरे से जुड़ा हुआ है परतूँ अलग सीख देता है। 

१ अर्जुन विषाद योग  

२ गीता का सार  

३ कर्म योग  

४ ज्ञानकर्म संन्यास योग  

५ कर्मसंन्यास योग   

६ आत्मसंयम योग   

७ ज्ञान विज्ञान योग    

८ अक्षर ब्राम्ह योग   

९ राजविध्या राजगृह्य योग 

१० विभूति योग   

११ विश्वरूप दर्शन योग  

१२ भक्ति योग  

१३ क्षेत्रक्षेत्रज्ञ विभाग योग   

१४ गुण त्रयविभाग योग   

१५ पुरुषोत्तम योग   

१६ दैवा सुरसंपद विभाग योग 

१७ श्रद्धात्रय विभाग योग     

१८ मोक्ष संन्यास योग । 

४.Bhagavad Gita मे क्या लिखा है?       

 भगवद गीता मे अनेक अध्याय है जिसके हर अध्याय मे अलग अलग जीवन से जुड़ी हुई बाते कही गई है।

भगवद गीता स्वयं श्री कृष्ण भगवान ने अर्जुन को बताई थी।

जब अर्जुन युद्ध भूमि मे बहुत ही बिकट समस्या मे था उसे अपने कर्तव्य का ध्यान करने के लिए भगवान श्री कृष्ण ने भगवद गीत अर्जुन को बताई थी। भगवद गीता ज्ञान का भंडार है जो भी उसे पद्धत है वो अपने जीवन की सभी समस्या का समाधान कर सकता है।

bhagavad gita in hindi

श्री भगवद गीत हिन्दी- 

A.C. BHAKTIVEDANTA SWAMI PRABHUPAD 

Best Hindi books to read

Best Hindi books to read, 10 हिन्दी भाषा के बेहतरीन बुक्स पोस्ट मे दिए हुआ है। इन 10 बुक्स को आप को क्यू पढ़ना चाहिए ये आप को इस पोस्ट मे समजेगा

Bhagavad Gita Saar in Hindi

भगवान श्री कृष्ण द्वारा भगवद गीता मे अर्जुन को बताया गया जिसमे भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को अपने कर्तव्य के बारे मे बताया। जब अर्जुन युद्धभूमि कुरुक्षेत्र मे अपने कर्तव्य का त्याग करने की सोच रहा होता है इस युद्ध से हार मानने की बात भगवान से करता है तब श्री कृष्ण अर्जुन को मार्गदर्शन करते है।
Summary
Review Date
Reviewed Item
Bhagavad Gita Hindi
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Comment

Your email address will not be published.